ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय खेल मध्यप्रदेश राज्य धर्म विचार-विमर्श टेक्नोलॉजी
शिवराज सरकार के निर्णय ज़न हितैषी - बिसाहूलाल सिंह
August 21, 2020 • विनोद पान्डेय • मध्यप्रदेश

अनूपपुर /मध्यप्रदेश सरकार के खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि सदियों से मध्यप्रदेश के आदिवासी भाई बहने दूर दराज जंगल पहाड़ों में निवास करते आ रहे हैं। धीरे-धीरे जंगलों का सफाया हुआ। जिसके कारण अधिकांश आदिवासी भाई गांव जंगल के बाहर हो गये परन्तु जंगलों में रहने वाले बैगा भारया सहरिया जन-जाति दूर दराज जंगलों में वर्तमान जागरूक समाज से दूर रहकर अपना भरण पोषण कर रहे हैं । उपरोक्त जनजाति प्रदेश के मूल निवासी हैं, तथा वर्षों से जंगल पहाड़ नदी नालों के बीच निवासरत है। ऐसे लोगों को प्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री आदरणीय शिवराज सिंह जी ने पहचाना वर्षों से पहाड़ जंगल एवं नदी नालों के बीच रह रहे आदिवासी भाई बहनों को उनके निवासरत भूमि का मालिकाना हक प्रदान करने का निर्णय लिया तथा संबंधित जिले के कलेक्टरों एवं वन विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये हैं कि 15 सितम्बर 2020 तक संपूर्ण रूप से

दौरा करके ऐसे लोगो की पहचान किया जाय तथा मालिकाना हक प्रदान करने की कार्यवाही सुनिश्चित करें। इसके आलावा आज भी कई ग्रामों में राजस्व विभाग या वन विभाग के जमीन

पर कुछ आदिवासी भाई निवासरत है जिले के जनप्रतिनिधियों से भी अनुरोध है कि उनकी भी पहचान कर अपने अपने क्षेत्र में राजस्व एवं वन विभाग के अधिकारियो के संज्ञान में लाये ताकि आने वाले समय पर सभी को मालिकाना हक प्रदान किया जा सके । मध्यप्रदेश सरकार के माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए सभी प्रदेश के कलेक्टरों को सख्त निर्देश प्रदान किये हैं। मध्यप्रदेश शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि 01 सितम्बर तक प्रदेश के ऐसे गरीब मजदूर जो राशन कार्ड पर्ची न होने कारण राशन प्राप्त नही कर पा रहे थे, ऐसे 37 लाख गरीब मजदूरो को राशन कार्ड पर्ची उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें जिससे कि 1 सितम्बर 2020 के बाद कोई भी गरीब व्यक्ति भूखा न रहे, तथा सभी को राशन उपलब्ध कराने की व्यवस्था करें। अब 01 सितम्बर 2020 के बाद कोई भी मजदूर भाई-बहने भूखे नहीं रहेंगे । मान. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी एक और ऐतिहासिक निर्णय लिये हैं कि, अब प्रदेश में स्थापित होने वाले सभी उद्योगों में प्रदेश के शिक्षित बेरोजगारों को उनकी योग्यता अनुसार नौकरी प्रदान की जावेगी । अब प्रदेश के बाहर रहने वालों को रोजगार एवं नौकरी में किसी भी तरह से प्राथमिकता नहीं दी जायेगी। इसी तरह मान. मुख्यमंत्री जी प्रदेश के छात्र-छात्राओं को प्रोत्साहित करने हेतु पुनः एक अभिनव योजना की शुरूआत की है। अब कोई भी छात्र या छात्राएं बारहवी की परीक्षा में अच्छे नंबरों से पास होता है तो उन्हे 25 हजार रूपये या एक लैपटॉप प्रदान किया जावेगा। इसी तरह मान.मुख्यमंत्री जी ने छोट-छोटे व्यापारियों के लिये एक महत्वपूर्ण योजना की स्वीकृति प्रदान किया है। नगर पालिका क्षेत्र, जनपद पंचायत क्षेत्र या नगर परिषद क्षेत्रों में छोटे-छोटे व्यापारी जो रोड के किनारे जूते, चप्पल, सब्जी, ठेले मसाले य अन्य तरह

की दुकान संचालित करते हैं उन्हे 10 हजार से 2 लाख तक विभिन्न बैंकों से ऋण स्वीकृत कराया जायेगा तथा ब्याज की राशि पूरी राज्य सरकार वहन करेगा । इसी तरह मान.

मुख्यमंत्री जी ने यह भी घोषणा किया है कि, जो सूदखोर बहला-फुसलाकर लंबे ब्याजों पर छोटे-छोटे व्यापारियों, किसानों को ऋण उपलब्ध कराकर लंबी ब्याज की राशि वसूल करते हैं। अब सभी भाई बहनों इस तरह के ऋण समाप्त कर दी गई है। मान. मुख्यमंत्री जी ने एक और ऐतिहासिक निर्णय लेते हुये निर्देश प्रदान किये हैं कि, रोड मैप बनाकर 2023 तक सभी ग्रामों को नल-जल योजना से जोड़ा जावेगा। अब हमारे भाई-बहनों को हैंडपंप का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। अधिकांश जगहों पर देखा गया है कि, कुछ जमीन माफियाओं के द्वारा जबरन शासकीय जमीनों या किसी की निजी जमीनों पर कब्जा करके निर्माण कार्य कर लेते हैं, ऐसे सभी माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जावेगी तथा उन्हें सख्ती के साथ बेदखल करके उनके ऊपर प्रकरण पंजीबद्ध किया जावेगा । अब प्रदेश के विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा, भारिया, सहरिया, जो पहले छूटे हुए थे अब उन प्रत्येक परिवारों को रूपये 1000/- की राशि मासिक प्रदान किया जावेगा। इस तरह राज्य सरकार को घोषणा से पूरे प्रदेश मे हर्ष व्याप्त है।