ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय खेल मध्यप्रदेश राज्य धर्म विचार-विमर्श टेक्नोलॉजी
भू-माफियाओं का आतंक: शासकीय पट्टे की भूमि से बूंदा बाई निकाला घर से
December 8, 2019 • NEWS NETWORK VISHVA SATTA • मध्यप्रदेश

शासकीय पट्टे की भूमि से बूंदा बाई को भू-माफियाओं ने निकाला घर से घर का समान फेंक किराए से रहने को किया गया विवश, पुलिस बनी उदासीन
कोतमा अनूपपुर । कोतमा तहसील जमीनो की खरीद फरोक्त एवं रिकार्डो के हेरफेर के मामले मे सुर्खियो में रहा है। जहां व्यापक रूप से शासकीय भूमि की फर्जी रजिस्ट्री करने तथा भू-माफिया का गढ़ माना जाता है। ऐसे ही एक मामले में नगर पालिका क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 10 विकास नगर कुदरीटोला का है, जहां प्रार्थी बूदा बाई पति स्व. ददन सिंह ने 25 अक्टूबर को थाने मे शिकायत कर बताई थी की वे अपनी बेटी के साथ कुदरीटोला मे निवासरत है। मेरे बगल मे ही राज कुमार गुप्ता का मकान है जो आए दिन अपशब्दो का प्रयोग कर जातिगत टिप्पणी कर आपमानित करता है। फरियादी ने बताया की एक वर्ष पूर्व शासकीय भूमि पर बना एक कच्चा मकान उसे बिना किसी लिखापढ़ी के हमारे द्वारा 45 हजार रूपए मे लिया था, उसके बाद भी वह हमे घर से निकालने की धमकी देता है। वही वार्ड क्रमांक १० के पार्षद देवशरण सिंह ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय मे 3 दिसम्बर को लिखित शिकायत करते हुए बताया कि वार्ड क्रमांक 10 तहसील कार्यालय के पीछे कुदरीटोला में स्थित शासकीय भूमि पर कुछ लोगो को शासकीय पट्टा भी प्रदान किया गया है। राजकुमार गुप्ता जो कि वार्ड क्रमांक 10 मे दो जगह शासकीय भूमि पर कब्जा कर उक्त भूमि पर मकान निर्माण किया हुआ है तथा शासकीय भूमि को विक्रय करने का कार्य भी कर रहा है। बोदा बाई पति स्व. मदन सिंह जो कि कुदरीटोला की निवासी है जिसे राजकुमार गुप्ता द्वारा अपने ही मकान से जुडे कमरे को विक्रय किया था, जहां बोदा बाई के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लिए जाने हेतु नगर पालिका मे आवेदन किया गया था, बोदा बाई के नाम से प्रधानमंत्री आवास सूची मे नाम अंकित है, जिसकी जानकारी लगते ही राजकुमार गुप्ता एवं उसके परिवार के लोगो द्वारा बोदा बाई को प्रताडित किया जाने लगा और मकान खाली करने की बात कही जा रही है। पार्षद देवशरण सिंह द्वारा दोनो पक्षो को समझाईश भी दी गई एवं आपस में समझौता भी कराया गया, लेकिन राजकुमार गुप्ता एवं उसके परिवार नही माने और आए दिन अपशब्दो का प्रयोग कर रहे है। 30 नवम्बर को राजकुमार गुप्ता एवं अन्य लोगो द्वारा बोदा बाई के घर का सामान बाहर फेंक दिए तथा उन दोनो के साथ मारपीट किए, जहां बोदा बाई द्वारा डॉयल 100 मे शिकायत करने पर वहां पुलिस पहुंची और घटना की जानकारी ली तथा मारपीट से बोदा बाई की पुत्री के हाथ मे चोट भी आई थी, जिसका मेडिकल हुआ था। पुलिस द्वारा एक पक्षीय कार्यवाही करते हुए राजकुमार गुप्ता के विरूद्ध मामला दर्ज नही किया गया साथ ही बोदा बाई को मजबूर करते हुए यह कहा जाता है कि तुम किरायानामा लिखकर दे दो और दो माह तक घर मे रहकर अपनी दूसरी जगह व्यवस्था बना लो। बोदाबाई के घर का सामान आज भी खुला पडा है।  बोदा बाई द्वारा बताया गया कि अपनी पुत्री के विवाह हेतु सोने एवं चांदी के छोटे-छोटे गहने भी रखे थे। मामले की शिकायत एसडीएम कोतमा के पास पहुंची तो उन्होने मामले को संज्ञान मे लेते हुए न्याय दिलाए जाने का आश्वासन बोदा बाई को दिया, लेकिन उसके घर से समान फेके जाने के बाद भी घर का पूरा समान बाहर पड़ा है तथा वह दूसरे के मकान में किराए से रह रही है।