ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय खेल मध्यप्रदेश राज्य धर्म विचार-विमर्श टेक्नोलॉजी
अनूपपुर ब्राम्हण समाज की जिला स्तरीय बैठक में आरोपी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की उठी मांग, मामला पंजीबद्ध
December 20, 2019 • NEWS NETWORK VISHVA SATTA • मध्यप्रदेश

दिनांक १८.१२.१९ को दोपहर करीब २ बजे अनूपपुर जिले के लहसुई, कोतमा के मुस्लिम पक्ष समुदाय द्वारा सीएबी के विरोध में एक रैली निकाली गई थी जो पूरे नगर क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन एवं नारे लगाकर किया जा रहा था, उसी बीच ब्राम्हण समाज के लिए सिफद मंसूरी एवं अन्य मुस्लिम समुदाय द्वारा एक स्वर में ब्राम्हण मुर्दाबाद के नारे लगाये गये, जो जातिगत अपमानित किया गया है।


अनूपपुर। जिला मुख्यालय अनूपपुर में कल १९ दिसम्बर को ब्राम्हण समाज के जिलास्तरीय बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें वरिष्ठ समाजसेवी शंकर प्रसाद शर्मा,आर्यावर्त ब्राह्मण महासभा के जिलाध्यक्ष चैतन्य मिश्रा,ब्राह्मण समाज सुधार  के जिलाध्यक्ष रामनारायण उर्मलिया,अजय मिश्रा ,शंभूप्रसाद शर्मा, बृजेश गौतम, शंभू प्रसाद तिवारी, लवकुश शुक्ला, मुनेश्वर पाण्डेय, मनोज द्विवेदी, आशुतोष त्रिपाठी, हनुमान गर्ग, राजेश पयासी,  अजीत मिश्रा, राजेश शुक्ला,प्रदीप मिश्रा , प्रीतम तिवारी, प्रदीप उपाध्याय, राजकुमार तिवारी, पंकज मिश्रा, सुधाकर मिश्रा, मनोज शुक्ला, ब्रजनंदन शुक्ला, मनोज दुबे, सुनील गौतम के साथ जिले के सैकड़ों लोग उपस्थित रहे। बैठक के दौरान चैतन्य मिश्रा बृजेश गौतम, मुनेश्वर पाण्डेय, शंभू प्रसाद उपाध्याय, रामनारायण उर्मलिया द्वारा समाज को लेकर अपने अपने विचार व्यक्त किये। ब्राम्हण समाज के आपातकालीन बैठक में सर्वसम्मति से पारित किया गया कि १८ दिसम्बर को सिफद मंशूरी के फेसबुक आईडी से ब्राम्हण समाज को अपमान जनक शब्दों से संबोधित किया गया था, जो बर्दाश्त नहीं है। समाज के सभी लोगों ने जिला प्रशासन एवं स्थानीय प्रशासन से मांग किया है कि समाज के भाईचारे में विद्रोह फैलाने वाले असामाजिक तत्वों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाये। बताया गया है कि दिनांक १८.१२.१९ को दोपहर करीब २ बजे अनूपपुर जिले के लहसुई, कोतमा के मुस्लिम पक्ष समुदाय द्वारा सीएबी के विरोध में एक रैली निकाली गई थी जो पूरे नगर क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन एवं नारे लगाकर किया जा रहा था, उसी बीच ब्राम्हण समाज के लिए सिफद मंसूरी एवं अन्य मुस्लिम समुदाय द्वारा एक स्वर में ब्राम्हण मुर्दाबाद के नारे लगाये गये, जो जातिगत अपमानित किया गया है। जिले भर के समाजसेवियों ने कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर, पुलिस अधीक्षक किरणलता केरकेट्टा, एसडीओपी कोतमा से मांग किए हैं कि दोषीजनों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज कर कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाये। 

अपमान जनक नारेबाजी पर मामला पंजीबद्ध
१८ दिसम्बर बुधवार को नागरिकता संसोधन बिल के खिलाफ  नगर मे निकाली गई रैली के दौरान लहसुई निवासी मो. सफीर द्वारा ब्राम्हण समाज के मुर्दाबाद के नारे लगाए जाने वाले विवादित एवं हिंसा फैलाने वाली नारेबाजी किए जाने एवं सिफद मंसूरी की आईडी में वीडियो अपलोड किए जाने पर समस्त ब्राम्हण सर्व हिन्दु समाज कोतमा द्वारा ३० संयुक्त हस्ताक्षरित ज्ञापन सौंपते हुए दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की गई थी। जिस पर पुलिस ने १९ दिसम्बर की देर शाम को मो. सफीर निवासी लहसुई गांव कोतमा के खिलाफ धारा १५३ए, २९५ए, ५०६, ५०५ (२) के खिलाफ मामला पंजीबद्ध किया गया है। मामले की जानकारी के अनुसार १८ दिसम्बर की दोपहर २ बजे लहसुई कोतमा में कुछ मुस्लिम समुदाय द्वारा कैब के विरोध में रैली निकाली गई थी, जो पूरे नगर में विरोध प्रदर्शन व नारे लगाए जा रहे थे, इसी दौरान मोहम्मद सकीर के द्वारा ब्राम्हण समाज मुर्दाबाद के नारे लगाए गए थे तथा सिफद मंसूरी द्वारा अपने आईडी में वीडियो को अपलोड कर दिया था, जिससे नाराज होकर समस्त ब्राम्हण सर्व हिन्दु समाज द्वारा ज्ञापन सौंपा दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की गई थी।